Friday, December 25, 2009

सोचा ना था कभी ऐंसा होगा,

आज कुछ अलग हुआ  ,
तुमसे बात हुई कुछ अलग लगा ,
               सोचा ना था कभी ऐंसा होगा,
तुमसे बात करके कुछ गजब हुआ ,
सुनके तुम्हारी आवाज ,आज कुछ अलग लगा ,
                सोचा ना था कभी ऐंसा होगा,
सुन आवाज तुम्हारी धड़क उडि धड़कन मेरी ,
मचल  उड़ा  मन  मेरा , सुन आवाज तेरी ,
                  सोचा ना था कभी ऐंसा होगा,
सरम से पानी-पानी हो उडे पंची सुन आवाज तेरी ,
सरमा गयी नदिया ,सरमा गयी वो कलियाँ ,
 सुन आवाज तेरी ..
                  सोचा ना था कभी ऐंसा होगा,
हुई मोन वो कोयल,सुन आवाज तेरी ,
थक न सका वो भोंरा गाके गीत तेरे,
                   सोचा ना था कभी ऐंसा होगा,
सुन आवाज तेरी ...............
   आज कुछ अलग हुआ , आज कुछ अलग लगा .....
सोचा ना था कभी ऐंसा होगा,................



दोस्त : - 
हम चले राह मिली ,लोग मिले दोस्त बने ,

कुछ दूर रहे , कुछ पास हुए ,
कुछ और दूर हुए ,कुछ और पास हुए ,
जो पास हुए वो कुछ खास हुए ,
ख़ास बनके वो कुछ ख़ास कर गए ,
अपने निसान हम पे छोड़ गए ,
हम बस याद करते रह गए .
pawanpurohit29@gmail.com

                                                                                                                                                                                                                      
Next
Newer Post
Previous
This is the last post.

0 comments:

Google+ Followers