Wednesday, December 30, 2009


कभी  कभी ........................... 
कभी  कभी  लगता  कुछ  कर  गुजर  जाउनू,   
                              कभी  लगता  है इस  दुनिया  के  साथ  चलूँ , 
                              कभी  लगता  है  इस  दुनिया को  अपने  साथ  ले  चलूँ , 
कभी  लगता  है  इस  भीड़  से  अलग  हो  जाउनू ,
कभी  लगता  है  इस  भीड़  में  खो  जाउनू  , 
                                 कभी  लगता  है  इस  आसमान  में  उड़  जाउनू , 
                                 कभी  लगता  है  इस  जमी  में  सो  जाउनू ,
                                    बस  कभी  कभी  लगता  है ............    
कभी लगता है  हम तो वो समां है जो अन्दियो  को मोड़ दे, 
कभी लगता है इन् अन्दियो में कहीं कुद को न  भूल जाएँ,
कभी लगता है सबके भोझ  उदा   लूं ................
कभी लगता है इस बोझ में कहीं कुद न दब जाउनू ,
                                 बस कभी कभी लगता है.............................

0 comments:

Google+ Followers